Wednesday, 17 April 2019

भारत में Google ने TikTok App को किया ब्लॉक


भारत में Google ने TikTok App को किया ब्लॉक

गूगल ने मद्रास हाईकोर्ट के निर्देशों का पालन करते हुए भारत में बेहद लोकप्रिय वीडियो ऐप्प टिकटॉक (TikTok) को ब्लॉक कर दिया है. इसका मतलब हुआ कि अब गूगल के प्ले स्टोर ऐप्प से टिकटॉक वीडियो ऐप्प को डाउनलोड नहीं किया जा सकता है. टिकटॉट को लेकर यह कदम उस फैसले के बाद आया है, जिसमें हाईकोर्ट ने चीन की कंपनी Bytedance Technology के उस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया था, जिसमें कंपनी ने कोर्ट से टिकटॉक ऐप्प पर से बैन खत्म करने को कहा था. भारत टिकटॉक का का एक बड़ा बाजार है और बैन लगाने से बाजार प्रभावित हो जाएगा.

मद्रास हाईकोर्ट ने 3 अप्रैल को केंद्र से टिकटॉक पर बैन लगाने को कहा था. साथ ही कोर्ट ने कहा था कि टिकटॉक ऐप्प पॉर्नोग्राफी को बढ़ावा देता है और बच्चों को यौन हिंसक बना रहा है. बता दें कि टिकटॉप पर अश्लील सामग्री परोसने का आरोप है.


टिकटॉक ऐप्प पर यह फैसला तब आया जब एक व्यक्ति ने इस पर प्रतिबंध के लिए एक जनहित याचिका दायर की. आईटी मंत्रालय के एक अधिकारी के अनुसार, केंद्र ने उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए Apple और Google को एक पत्र भेजा था. सरकार ने गूगल और एपल को मद्रास उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करने को कहा है जिसमें लोकप्रिय मोबाइल एप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाया है. सरकार ने गूगल और एपल को मद्रास उच्च न्यायालय के उस आदेश का पालन करने को कहा है जिसमें लोकप्रिय मोबाइल एप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाया है.


भारत में टिकटॉक ऐप्प अभी भी ऐप्पल के प्लेटफार्मों पर मंगलवार देर रात तक उपलब्ध था, लेकिन Google के प्ले स्टोर पर उपलब्ध नहीं था. Google ने एक बयान में कहा कि यह इस ऐप्स पर टिप्पणी नहीं करता है लेकिन स्थानीय कानूनों का पालन करता है.


हालांकि, गूगल के इस कदम पर टिकटॉक की ओर से कोई बयान नहीं आया है. टिकॉटक यूजर्स को स्पेशल इफेक्ट के साथ वीडियो बनाने और शेयर करने की अनुमति देता है. यह भारत में काफी पॉपुलर हो गया है मगर कुछ राजनेताओं ने इस ऐप्प की आलोचना की है और उनका कहना है कि इसका कंटटे अनुचित होता है. फरवरी में एक रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में अब तक 240 मिलियन लोगों द्वारा इस ऐप्प को डाउनलोड किया जा चुका है.


टिप्पणियां


मद्रास उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा था कि मीडिया रिपोर्टों से स्पष्ट है कि इस तरह के मोबाइल एप के जरिए अश्लील और अनुचित सामग्री उपलब्ध कराई गई है. अदालत ने मीडिया को टिकटॉक से बने वीडियो का प्रसारण नहीं करने का भी निर्देश दिया था. बता दें कि टिकटॉक एप का मालिकाना हक चीन की कंपनी बाइटडांस के पास है. यह एप लोगों को छोटे वीडियो बनाने और उन्हें साझा करने की सुविधा देता है. टिकटॉक ने मंगलवार को बयान में कहा कि उसे भारतीय न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है.


टिकटॉक ऐप्प पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने से इनकार किया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल हाई कोर्ट मामले कोर्ट सुनवाई कर रहा है और अब अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी. मदुरै हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई है और याचिका में हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई है. दरसअल मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह वीडियो ऐप टिक टॉक की डाउनलोडिंग पर बैन लगाए. साथ ही कोर्ट ने मीडिया को निर्देश दिया है कि वो इसका प्रसारण ना करे. 
(इनपुट रॉयटर्स)
Continue reading

Wednesday, 10 April 2019

फतेहपुर में बिजली संकट से शहर से गांव तक त्राहिमाम

© 33/11 असोथर पीएसएस
फतेहपुर में बिजली संकट से शहर से गांव तक त्राहिमाम

【आत्म गौरव न्यूज़.com】

उमस भरी गर्मी के बीच से सोमवार से घोर बिजली संकट के कारण शहर से गांवों तक त्राहिमाम मचा रहा। 
सुबह से देर रात तक बिजली की आंख-मिचौनी से उपभोक्ता पूरी तरह बेजार रहे। 

भीषण गर्मी में भी घंटों आपूर्ति ठप रहने से उनमें भारी आक्रोश है। 

बिजली संकट से दिनचर्या पर असर पड़ रहा है। 
पानी के लिए दौड़ लगानी पड़ रही है। शिकायतों के बावजूद बिजली व्यवस्था पटरी पर नहीं आ रही है। 
वर्तमान लोकसभा चुनाव के दौर में बिजली के यह हालत सत्ताधारी पार्टी को जनता की नाराजगी कहि भारी न पड़ जाएं , न ही सत्ता दल के नेता और न ही विपक्ष इस बिजली समस्या पर चिंतित हैं और
विभागीय अधिकारी ब्रेक डाउन व जर्जर तार का रोना रो रहे हैं।

जिले फतेहपुर के बड़े हिस्से असोथर क्षेत्र के नरैनी फ़ीडर के गांवों में दो से तीन दिन तक बत्ती गुल रही। 
शाम होते-होते संकट और गहरा गया। 

फ़ीडर के विधातीपुर , बनपुरवा , कौंडर , सुजानपुर , सरकंडी , कठौता , सातों धरमपुर , सातों जोगा , मनावां , जानिकपुर , पासीन डेरा , आदि गांवों में तो लोग पनाह मांगते दिखे। 
दो दिनों से अघोषित बिजली कटौती से पानी की किल्लत से जूझना पड़ा। 
इसके बाद असोथर बाजार इलाके में घंटों बिजली बाधित रही। 
शाम होते-होते असोथर पावर सब स्टेशन से भी आपूर्ति ठप हो गई। इससे क्षेत्र में पड़ने वाले गांव अंधेरे में डूब गये। 
जेई गिरिजाशंकर यादव ने तो फोन ही नही उठाया , और पॉवर स्टेशन के ऑपरेटर ने बताया कि ओवरलोड के कारण तार टूटकर गिर गया है। 
करीब  48 घंटे से अधिक समय तक 33/11 असोथर पीएसएस से आपूर्ति नहीं हो सकी। 
इधर क्षेत्र के जरौली और कौहन में भी बिजली संकट है।



संकट से कस्बे से गांवों तक त्राहिमाम


स्थानीय लोगों ने असोथर पीएसएस पहुंचकर आक्रोश भी जताया। 
उनका कहना है कि नवनियुक्त अधिशासी अभियंता गिरिजा शंकर यादव 33/11 असोथर पीएसएस को  की बिजली व्यवस्था की कमान सौंपे जाने के बाद भी कोई सुधार नहीं हो सका। 
हालत और बदतर हो गये हैं।

इधर नरैनी फ़ीडर के हेड लाइनमैन राकेश ने कहा कि जर्जर तार होने के कारण ब्रेकडाउन हो गया था। 
शाम में लोड बढ़ने के कारण भी अधिकतर तार टूट जाता हैं। 
इसे दुरुस्त किया जा रहा है।

नरैनी फ़ीडर में बिजली की स्थिति बेहद खराब है। 
लोगों में भारी आक्रोश है। उनका कहना है कि कई दिनों से बिजली की लुका-छिपी का खेल चल रहा है। 
शिकायत करने के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। 
लोगों का कहना है कि मेंटेनेंस का बहाना बनाया जा रहा है। 
कभी तेज हवा चलने तो कभी दिन दिन भर गेहूं की पकी फसल का बहाना बनाकर बिजली की कटौती की जा रही है। 
बिजली अधिकारी केवल आश्वासन देते हैं। 
अगर इसे जल्द ठीक नहीं किया गया तो आंदोलन किया जायेगा। 
वही असोथर पशु चिकित्सालय में नया ट्रांसफार्मर रखने के कुछ ही देर बाद जल गया , पशु अस्पताल में बिजली समस्या होने से पशुपालन ,मुर्गीपालन आदि योजनाओं के लाभार्थियों  के डाटा एंट्री व अन्य तकनीकी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा हैं ।
पशुचिकित्सालय असोथर में जला ट्रांसफार्मर



Continue reading

Wednesday, 3 April 2019

असोथर थानाध्यक्ष की विदाई में छलके स्टाफ की आँखों से आंसू

असोथर थानाध्यक्ष की विदाई में छलके स्टाफ की आँखों से आंसू


फतेहपुर - उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के असोथर थाने का चार्ज लगभग 11 माह पहले थानाध्यक्ष कमलेश कुमार पाल ने सम्भाला था।
11 महीने के कार्यकाल में उन्होंने जिस तरह से अपने काम को अंजाम दिया, काफी काबिले तारीफ रहा।


जनपद के ही किशनपुर थाने तबादले होने के बाद जब आज जैसे ही असोथर थाने को छोड़कर जाने लगे तो, सब इंस्पेक्टर गोविंद सिंह चौहान , हीरामणि तिवारी , हेड कांस्टेबल ध्यान सिंह , संदीप उपाध्याय , कम्प्यूटर आपरेटर चन्द्रप्रकाश पाल व समस्त स्टाफ के आंसू छलक आये और नम आंखों से विदाई देते हुए सैल्यूट करके गाड़ी में बिठा के विदा कर दिया

थानाध्यक्ष रहते हुए इन्होने क्षेत्र में चल रहे अवैध कार्यों को बंद कराते हुए अपने कार्यशैली से क्षेत्रीय जनता का मन जीता । उन्होंने अपने 11 माह के कार्यकाल में सायबर अपराधियों की गिरफ्तारी समेत इनामी बदमाशों , अवैध शस्त्र फैक्ट्री सहित गुडवर्क भी किया।
व थानाध्यक्ष कमलेश कुमार पाल जी ने एक मिसाल कायम कर दी असोथर जैसे सी ग्रेडिंग थाने को साफ - सफाई स्वच्छता पर ए ग्रेडिंग तक ले जाने का कार्य आपके द्वारा किया गया , उत्तरप्रदेश में प्रथम स्थान पर जनसुनवाई निस्तारण में स्थान इन्ही के कारण सम्भव हुआ ।
क्षेत्रीय जनता  ने कहा कि बहुत ही नेक आदमी थे ।
थाने में आने वाला चाहे वो गरीब व्यक्ति रहा हो या कोई भी उनका सभी से बोल चाल और बर्ताव काफी अच्छा रहा।

इसके अलावा पत्रकारों को भी सम्मान देते थे।
पत्रकार संतराम सिंह , फूलचंद्र वर्मा , गौरव सिंह का कहना था कि असोथर आप जैसे थाना प्रभारी का सदैव ऋणी रहेगा
थानाध्यक्ष असोथर कमलेश कुमार पाल जी का व्यवहार काफी अच्छा था , असोथर कस्बे में सराहनीय व प्रसंसनीय निर्विवादित 11 माह का कार्यकाल रहा ...
आप ने बहुत ही सुंदर कस्बे सहित क्षेत्र में लोंगो के बीच आपसी सामंजस्य को बनाएं रखा ..
उनके 11 महीने के कार्यकाल में किसी भी तरह की कोई परेशानी नही हुई।
फिर चाहे वो खबरों की कवरेज को लेकर रही हो या उनके वर्जन को लेकर ,
शांत भाषा मे सही जवाब देते थे

और भावुक हो गए थानाध्यक्ष


जाते जाते कमलेश कुमार पाल ने थाना प्रांगण में बने शिव मंदिर में मथ्था टेका और इसके बाद वह बोलते हुए भावुक हो गए सभी का प्रेम स्नेह देखकर बरबस ही उनकी आंखों से आँसू छलक गएं और कहा की

सभी साथियों को मेरा नमस्कार 🙏
मैं यहाँ पर 11 माह के कार्यकाल में रहा आप सभी के प्रेम स्नेह से बिल्कुल अपना घर गांव जैसा लग रहा था असोथर ,मुझसे कोई जाने अंजाने में गलती गुस्ताखी हो गई तो उसके लिए क्षमाप्रार्थी हूँ , मैं सभी के उज्ज्वल भविष्य की कामना करता हूं। 
आप के क्षेत्र में मुझे आप सभी का अच्छा सहयोग मिला, जिसके लिए मैं आप सभी का धन्यवाद देता हूँ।
Continue reading

Wednesday, 27 March 2019

यूपी के फतेहपुर में चल रहा था अवैध असलहा बनाने का कारोबार, शस्त्र फैक्ट्री का खुलासा दो गिरफ्तार

Press conference Fatehpur S.P Kailash Singh
यूपी के फतेहपुर में चल रहा था अवैध असलहा बनाने का कारोबार, शस्त्र फैक्ट्री का खुलासा दो गिरफ्तार

अवैध शस्त्र फैक्ट्री का खुलासा  6 अदद तमंचा 315 बोर व 12 बोर व एक अदद बन्दूक 12 बोर देशी बरामद व  02  अभियुक्त  गिरफ्तार

फतेहपुर : योगीराज में पुलिस की गश्त और अपराधियों पर पुलिस की सख्ती का असर दिखाई देने लगा है।

ऐसे में फतेहपुर की गाजीपुर थाना पुलिस ने तेज तर्रार थानाध्यक्ष अर्जुन सिंह के नेतृत्व में असलहा फैक्ट्री को पकड़ने में सफलता पाई है।
पुलिस ने भारी मात्रा में असलहे,असलहा बनाने के उपकरण बरामद किए हैं।पुलिस ने असलहा बनाने वाले दो लोगों को गिरफ्तार किया है।
यह काफी समय से अवैध असलहो का काला कारोबार कर रहे थे और कई शहरों में सप्लाई भी करते थे।
पुलिस ने गिरफ्तार कर दोनों अभियुक्तों को जेल भेज दिया है।

आगामी लोकसभा चुनाव को सकुशल संपन्न कराये जाने हेतु फतेहपुर पुलिस द्वारा चलाये जा रहे अभियान के क्रम में आज दिनांक 27.03.19 को  थानाध्यक्ष अर्जुन सिंह मय हमराह एवं निरीक्षक श्री अमित पाण्डेय प्रभारी स्वाट टीम की संयुक्त टीम द्वारा ग्राम अहिरन का डेरा मजरे लम्हेटा से दो नफर अभियुक्तगण  1.रामसिंह S/o स्व0 जगजीत यादव R/o ग्राम अहिरनडेरा H/o लम्हेटा Ps गाजीपुर फतेहपुर उम्र 53 वर्ष 2. अजय यादव पुत्र श्री रायबहादुर R/o गनेश पुर मजरे बीनू थाना ललौली फतेहपुर उम्र 32  वर्ष  को अवैध शस्त्र निर्माण करते हुए पकड़ लिया गया । 
अभियुक्तगण अजय यादव के कब्जे से एक अदद तमंचा 315 बोर देशी मय दो अदद कारतूस 315 बोर ,तथा मौके पर अभियुक्तगणो द्वारा बनाये जा रहे अवैध शस्त्र बनाने के उपकरण व चार अदद तमंचा 315 बोर देशी नाजायज व एक अदद तमन्चा 12 बोर व एक अदद बन्दूक 12 बोर एक अदद अधबना तमन्चा 315 बोर कुल 07 अदद तमन्चे व बन्दूक तथा कुल 18 अदद खोखे व कारतूस 315 बोर व 12 बोर बरामद हुये ।

अभियुक्तों से भारी मात्रा में बरामद अवैध असलहे

अभियुक्तगणो के विरूद्ध थाना गाजीपुर पर मु0अ0सं0 75/19 धारा 3/25 आर्म्स एक्ट बनाम राम सिंह आदि 02 नफर तथा मु0अ0सं0 76/19 धारा 3/25 आर्म्स एक्ट बनाम अजय यादव पंजीकृत किया गया तथा अभियुक्तगणो को गिरफ्तार कर जेल भेजा दिया गया हैं।
Continue reading

Monday, 25 March 2019

शहीद भगत सिंह और पत्रकार पुरोधा शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी जी के आपसी सम्बन्धों का इतिहास - अजीत सिंह चौहान

शहीद सरदार भगत सिंह को 23मार्च 1931 अंग्रेजों ने फाँसी दी। 
इस फांसी के विरोध में जवाहरलाल नेहरू देशभर में बन्द बुलाया, बन्द के दौरान कानपुर में दंगा हुआ जिसमें 25मार्च 1931 को प्रताप संपादक गणेश शंकर विद्यार्थी जी शहीद हुए। 
दोनों शहीदों के आपसी सम्बन्धों का इतिहास 
-------------------------------------------------------------------------------

✍ अजीत सिंह चौहान


( लेखक अजीत प्रताप सिंह चौहान की गणेश शंकर विद्यार्थी जी पर " चंपारण सत्याग्रह का गणेश " नामक पुस्तक प्रतिष्ठित लोकहित प्रकाशन से प्रकाशित हो चुकी है 
 लेखक काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (BHU) के शोध छात्र हैं तथा व इनकी स्नातक की शिक्षा प्रयागराज स्थित इलाहाबाद विश्वविद्यालय से हुई है ,व लेखक फतेहपुर जिले के खागा क्षेत्र के रहने वाले हैं )

अमेजन से ऑनलाइन खरीद सकते हैं " चंपारण का सत्याग्रह "
https://www.amazon.in/dp/9388211073/ref=cm_sw_r_fa_apa_i_Fh-ECbAA8QMFV


जब सरदार भगत सिंह कॉलेज में ही पढ़ रहे थे तभी पिता सरदार किशन सिंह और घर वाले शादी का प्रबंध करने लगे। पंजाब केसरी रणजीत सिंह के वंशज मानावाला गाँव के एक खाते-पीते परिवार की एक कन्या से विवाह भी तय हो गया, यही नहीं रस्म अदायगी का दिन भी निश्चित हो गया। किशन सिंह पुत्र को तिलक जैसा क्रांतिकारी बनाना चाहते थे जो कांग्रेस से जुड़कर आजादी के सार्वजनिक आंदोलन को भारत के आंगन में उतारे। वह नही चाहते थे कि भगत सिंह फांसी पर झूले। वे अपने छोटे भाई अजीतसिंह, अपने मित्र रासबिहारी बोस और अपने पुत्रवत प्रिय करतार सिंह सराभा के कार्यों का परिणाम देख चुके थे। हालांकि उन्होंने गदर पार्टी के काम में आर्थिक सहायता दी थी, पर सराभा से साफ कह दिया था कि तुम्हारा गदर आंदोलन जिस खुले रूप में संगठित किया जा रहा है, वह भारत में सफल नहीं हो सकता क्योंकि यह अमेरिका नहीं है। चाचा अजीत सिंह के जीवन से प्रेरित भगतसिंह विवाह नहीं करना चाहते थे, उन्होंने अपनी चाचियों का हाल देखा था। पर दिल न दुखे इस ख्याल से बाबा के पूछने पर चुप्पी साध लेते थे मगर अपने पिता किशन सिंह को यह बात बहुत ही साफ ढंग से कह दिया था कि वह शादी नही करना चाहते। किसी ने इनकी एक न सुनी, अकस्मात एक दिन घर वालों ने देखा भगत सिंह गायब है, किशन सिंह को घर की अपनी मेज की दराज़ में एक पत्र, भगत सिंह का मिला।  जिसमें उन्होंने अपने घर छोड़ने का कारण बताया था। 
पत्र-

        पूज्य पिताजी
        नमस्ते।
        
        मेरी जिंदगी मकसदे आला (उच्च उद्देश्य) यानि आजादी-ए-हिंद के असूल (सिद्धांत) के लिए वक्फ़ (दान) हो चुकी है। इसलिए मेरी जिंदगी में आराम और दुनियावी खाहशात (सांसारिक इच्छाएं) बायसे कशिश (आकर्षक) नहीं है।
        आपको याद होगा कि जब मैं छोटा था, तो बापूजी ने मेरे यज्ञोपवीत के वक्त ऐलान किया था कि मुझे खिदमत-ए-वतन (देश सेवा) के लिए वक्फ़ कर दिया गया है। लिहाजा मैं उस वक्त की प्रतिज्ञा कर रहा हूँ। 
उम्मीद है आप मुझे माफ फरमाएंगे।
                                             
                                                       आपका ताबेदार
                                                           भगत सिंह

शचीन्द्रनाथ सान्याल ने अपनी पुस्तक 'बंदी जीवन' में लिखा कि "इस दौरान भगत सिंह से उनका संपर्क था, हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन के रूप में इस पार्टी में पंजाब के युवाओं को अपने संगठन में शामिल करने के प्रयास में सान्याल भगत सिंह को भी शामिल करना चाहते थे - उन्हें जब भगत सिंह ने बताया कि घर वाले उनकी शादी करने पर तुले हुए हैं तो उन्होंने फौरन उनको लाहौर छोड़कर कानपुर चले जाने को कहा।" 
भगत सिंह क्रांतिकारी रासबिहारी बोस से मिलने तथा सहायता प्राप्त करने जापान जाना चाहते थे, इसी उद्देश्य से वह लाहौर से कानपुर पहुंचे, और कानपुर में भगत सिंह रामनारायण बाजार में रहते थे। और अख़बार बेचकर अपने खाने-पीने का इंतजाम  करते थे। यह बाजार बंगाली लोगों का गढ़ था इतने बंगालियों के बीच में एक सिख का रहना किसी के भी संदेह का कारण बन सकता था। पुलिस के कुछ सिपाही भी उनके मकान के आस-पास टोह लेते दिखाई दिए थे। ऐसे में भगत सिंह को जगह बदलने की आवश्यकता थी। जल्द ही उन्हें भी प्रताप प्रेस के विषय में पता चल गया जो देशभक्त नवयुवकों के लिए अपना घर सा था। 'प्रताप' संपादक गणेश शंकर विद्यार्थी के पास जो पहुंचता उसे यही अनुभव होता कि विद्यार्थीजी सबसे अधिक मुझ पर ही विश्वास करते हैं और मेरे नजदीक है। भगत सिंह ने विद्यार्थी जी से भेंट की, अनजान युवक ने देश सेवा करने का अपना दृढ़ निश्चय प्रकट किया, और जीवन निर्वाह के लिए कुछ काम चाहा। सहायता या दान लेने से साफ इंकार कर दिया। विद्यार्थीजी ने युवक में, प्रतिभा, आत्मविश्वास और एक अजीब धुन देखी, उन्होंने उसे प्रेस में काम दिया था, प्रताप प्रेस में भगत सिंह ने अपना परिचय  'बलवंत सिंह' दिया था।
 कानपुर उन दिनों उत्तर भारत के क्रांतिकारी आंदोलन के सूत्र संचालन का केंद्र था। अनुशीलन समिति के एक प्रमुख संगठन कर्ता के रूप में श्री योगेश चटर्जी 'राय महाशय' के नाम से संगठन कर रहे थे। प्रांत में शचीन्द्रनाथजी सन्याल ने अपना संगठन शुरू कर दिया था तथा कुछ अन्य लोग भी स्थान-स्थान पर अपने छोटे-छोटे गुट बनाने लगे थे। पर कुछ दिनों बाद सब लोग "हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन" नाम की संस्था के नीचे एकत्र होकर काम करने लगे। राय महाशय कानपुर के कुरसवां में एक मकान लेकर रहने लगे, भगत सिंह इन्हीं दिनों कानपुर आए और यहां उनका सम्बंध इसी क्रांतिकारी संस्था से हो गया।  क्रांतिवीर चन्द्रशेखर 'आजाद'  से भगत सिंह का परिचय प्रताप प्रेस में ही इसी दौरान विद्यार्थीजी ने करवाया था। यह समय भगत सिंह के जीवन के लिए निर्णायक बना, इसी समय से वह भारत की एक सुसंगठित क्रांतिकारी संस्था के सदस्य बने और जो आगे चलकर भारतीय क्रांति के इतिहास का एक अध्याय बना।
'प्रताप' में भगत सिंह की स्थायी रूप से नियुक्ति नहीं हुई। आवश्यकता के अनुसार खर्च मिल जाता था, पर यह रकम किसी भी दशा में 20आना माहवारी से अधिक नहीं पहुंची। उन्हीं दिनों बब्बर अकालीयों के खून से अंग्रेजों ने अपने हाथ लाल किए थे। होली के त्योहार के दिन थे। 'प्रताप' साप्ताहिक में "खून की होली" शीर्षक से छपा लेख सरदार भगत सिंह का लिखा हुआ था। 'प्रताप' की आर्थिक दशा स्वयं ही खराब थी। सरकार उसे किसी भी तरह बंद कर देना चाहती थी। तीन बार उसकी जमानत ज़ब्त की जा चुकी थी। रायबरेली में हत्याकांड करने वाले वीरपाल की मुख़ालफ़त करने और किसानों का पक्ष लेने के कारण मानहानि का मुकदमा चला। विद्यार्थीजी को हजारों रुपए जनता से लेकर मुकदमें में फूंकना पड़ा। जेल भुगतनी पड़ी। दैनिक प्रताप का संस्करण बन्द करना पड़ा। दशा यहां तक बिगड़ी कि डाक्टरों ने स्वयं विद्यार्थीजी को स्वास्थ्य खराब हो जाने की वजह से पहाड़ में जाने की सलाह दी थी, पर धन की कमी के कारण वे पहाड़ न जाकर फूलबाग में बैठकर अपना काम करते थे।
कानपुर में भगत सिंह का परिचय अन्य सदस्यों से हुआ -  जिसमें बटुकेश्वर दत्त के अतिरिक्त सुरेशचन्द्र भट्टाचार्य, अजय घोष, विजय कुमार सिन्हा आदि के नाम विशेष उल्लेखनीय है।
बटुकेश्वर दत्त ने भगत सिंह को बांग्ला भाषा में पारंगत किया था। 1924 में भयानक भरी गंगा में जीवन की पर्वाह न करते हुए अपने अन्य साथियों के साथ नजदीकी गांव में रहने वाले किसानों को बचाने और उन्हें सहायता पहुंचाने का काम किया।
 विद्यार्थीजी ने अलीगढ़ जिले के शादीपुर गाँव के नेशनल स्कूल में भगत सिंह को हेडमास्टर बनाकर भेजने का निश्चय किया और, रहने की व्यवस्था वहां के स्थानीय नेता ठाकुर टोल सिंह के घर कर दी गई। इसी दौरान भगत सिंह के पारिवारिक मित्र रामचन्दर को नेशनल कॉलेज में भगत सिंह के सहपाठी रहे जयदेव गुप्ता का पत्र मिला। पत्र में जयदेव गुप्ता ने रामचन्दर को अपने साथ कानपुर चलने के लिए राजी किया। दोनों कानपुर पहुंचे और विद्यार्थी जी से मिले। वरिंदर संधू के अनुसार "तब तक विद्यार्थीजी को यह खबर नहीं थी कि उनके अखबार में काम करने वाला 'बलवंत' वास्तव में क्रांतिकारी सरदार अजीत सिंह का भतीजा और सरदार किशन सिंह का पुत्र भगत सिंह है। भगत सिंह के दोनों मित्रों ने विद्यार्थीजी को भगत सिंह के विषय में व दादी की गंभीर बीमारी और पोते से मिलने की इच्छा के बारे में बताया।" जयदेव के अनुसार भगत सिंह छुप रहे थे और उन दोनों (उन्हें और रामचन्दर) से नहीं मिले। इसलिए इन दोनों ने विद्यार्थीजी के पास भगत सिंह के लिए उनकी दादी की बीमारी का संदेश छोड़ा और साथ में यह आश्वासन भी था कि लौटने पर कोई उनसे शादी के लिए जिद नहीं करेगा। दोनों लाहौर लौटकर किशन सिंह से आग्रह किया कि वह अपने मित्र मौलाना हसरत मोहानी को पत्र लिखे जिसमें भगत सिंह से साफ-साफ वायदा किया गया हो कि उनसे शादी के लिए नहीं कहा जाएगा। मौलाना हसरत मोहानी ने भी विद्यार्थीजी से आग्रह किया कि वह भगत सिंह को घर वापसी के लिए राजी करें। इससे पहले किशन सिंह ने 'वंदेमातरम' समाचार पत्र में विज्ञापन छपवाया था कि "भगत सिंह, जहां भी हों, लौट आएं।"  लाहौर लौटने से पहले भगत सिंह कानपुर में अगस्त-सितंबर 1923 से अप्रैल 1924 के मध्य लगभग छः माह रहे।


सरदार भगत सिंह और गणेश शंकर विद्यार्थी जी की शहादत के बीच में  दो दिनों का अंतर था। हिंदी पत्रकारिता के भीष्म की  प्रायोजित हत्या के लिए औपनिवेशिक अंग्रेजी सत्ता ने भगत सिंह की शहादत को ही ढाल बनाया। दरअसल कानपुर के जिस सांप्रदायिक दंगे में विद्यार्थीजी शहीद हुए, वह दंगा उस दौरान भड़काया गया जब कानपुर सहित देश के अनेक बड़े शहरों में गांधी-इरविन समझौता के तहत सरदार भगत सिंह को जेल से छोड़ने की जगह फांसी देने के विरोध में बंद का आवाहन किया  गया था। दोनों शहीदों की पहली मुलाकात शहादत के लगभग सात बरस पहले कानपुर में हुई थी। जब भगत सिंह विवाह से बचने के लिए घर छोड़कर कानपुर आए थे और प्रताप साप्ताहिक में बलवंतसिंह के नाम से काम किया और प्रताप प्रेस में रुके भी।
----- -------- ------ ------ ---
1916 लखनऊ अखिल भारतीय कांग्रेस अधिवेशन के बाद महात्मा गांधी एक दिन के लिए 'प्रताप प्रेस' कार्यालय पर रुके, जहां पर उन्होंने विद्यार्थीजी को कांग्रेस से जुड़ने और देश की राजनीति में सक्रिय होने के लिए प्रेरित किया। इसके बाद विद्यार्थीजी लगातार कांग्रेस में सक्रिय रहे। विद्यार्थीजी अपने जीवन में पांच बार जेल गए जिसमें दो बार कांग्रेस के नेता के रूप में में भाषण देने के कारण जेल गए। 1923 में आयोजित फतेहपुर जिला कान्फ्रेंस के सभापति के रूप में दिये गये उनके भाषण को अंग्रेज सरकार ने देशद्रोह माना और और उन्हें एक बरस साल की सजा सुनाई गयी। यह उनकी तीसरी जबकि पहली राजनीतिक जेल यात्रा थी। विद्यार्थीजी 20मार्च 1923 से 29 जनवरी 1924 को जेल से मुक्त हुए।
1925 में अखिल भारतीय कांग्रेस का चालीसवाँ अधिवेशन श्रीमती सरोजनी नायडू की अध्यक्षता में कानपुर में हुआ। स्वागत कार्यकारिणी के प्रधानमंत्री विद्यार्थीजी बनाये गये। इसके बाद वह 1926 में संयुक्त प्रांत काउंसिल के सदस्य के लिए कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में खड़े हुए और उन्होंने उद्योगपति चुन्नीलाल गर्ग को मदनमोहन मालवीयजी के प्रचार के बावजूद पराजित किया और काउंसिल के सदस्य बने। जब सन 1929 में कांग्रेस ने निर्णय लिया कि कांग्रेसी सदस्य काउंसिल की सदस्यता छोड़ दे तो उन्होंने सबसे पहले त्यागपत्र दिया।
सन 1929 में फर्रुखाबाद में हुए युक्त प्रान्तीय राजनीतिक सम्मेलन के अध्यक्ष चुने गये और उसके बाद प्रांतीय कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चुने गये। 1930 का कांग्रेस का नमक सत्याग्रह आरंभ हुआ तो विद्यार्थीजी युक्त प्रांत के प्रथम डिक्टेटर मनोनीत किया गये। 'कर्मयोगी' के संपादक व 'भारत में अंग्रेजी राज' जैसी पुस्तक के लेखक पं सुंदरलाल ने अपनी आत्मकथा में लिखते हैं कि "उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष श्री गणेश शंकर विद्यार्थी के पास से तकाजे-पर-तकाजे आ रहे थे कि मैं तुरंत उत्तर प्रदेश (उस समय मुंबई में थे) लौट आऊँ। कानपुर में प्रदेश कांग्रेस का प्रांतीय सम्मेलन हो रहा था। स्वागतकारिणी समिति ने मुझे अध्यक्ष चुना था। गणेशजी स्वागतकारणी समिति के सभापति थे। ... उत्तर प्रदेश के सब बड़े नेता, जवाहरलाल जी को छोड़कर सम्मेलन में उपस्थित थे। नमक सत्याग्रह का बिगुल बज चुका था। ... फूलबाग में सम्मेलन का विशाल पांडाल प्रतिनिधियों, सत्याग्रही स्वयंसेवकों और युवा कार्यकर्ताओं से खचाखच भरा था। गणेश शंकर विद्यार्थी ने स्वागतकारणी के सभापति की हैसियत से प्रतिनिधियों का स्वागत किया। उन्होंने सावधान किया कि सरकार और उसके गुर्गे, इस बात की चेष्टा करेंगे कि प्रदेश को सांप्रदायिक दंगों में उलझा दें। इसलिए हमें सावधानी बरतनी होगी और यदि कहीं भी साम्प्रदायिक उत्पात होते हैं तो हमें उन्हें रोकने में अपने प्राणों की बाजी लगा देनी चाहिए। उन्होंने युवा देशभक्तों से भी अपील की कि उन्हें अहिंसात्मक उपायों को अपनाकर नमक सत्याग्रह के पूरे मनोबल के साथ भाग लेना चाहिए।"
प्रांतीय राजनीतिक सम्मेलन में विद्यार्थीजी के भाषण को राजद्रोहात्मक बताकर 25 मई को दफा117 में गिरफ्तार हुए और उसी दिन एक बरस की सख्त सजा दे दी गयी। उसी दिन शाम को कानपुर से हटाकर रात बारह बजे हरदोई जेल पहुंचाया गया। विद्यार्थीजी के बाद पुरुषोत्तमदास टंडन दूसरे डिक्टेटर बने। टण्डनजी की गिरफ्तारी के बाद पंडित सुंदरलाल को डिक्टेटर बनाया गया।
गणेश शंकर विद्यार्थी की सजा पूरी होने के छः दिन पहले गांधी-इरविन समझौते के तहत उन्हें जेल से 15मार्च, 1931 के स्थान पर 9मार्च, 1931 को रिहा किया गया। गांधी-इरविन समझौते में राजनीतिक कैदियों को रिहा करना था, परंतु भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को रिहा नहीं किया गया। उन्हें 23मार्च, 1931 को लाहौर के किले में फांसी दे दी गयी और फिरोजपुर के पास सतलुज नदी के किनारे उनके शव को अत्यंत गोपनीय तरीके से अग्नि के सुपुर्द किया गया। इसके विरोध में जवाहरलाल नेहरू के आदेश पर 25 मार्च को देशभर में हड़ताल हुई। मुंबई, कराची, लाहौर, कोलकाता मद्रास और दिल्ली में यह हड़ताल शांतिपूर्वक रही, किंतु कानपुर में अंग्रेजों ने हड़ताल को हिंदू-मुस्लिम दंगे में बदल दिया। कई दिन तक चलता रहा, हजारों घर जला दिये गये। और 500 से अधिक लोग मारे गए।
25 मार्च 1931 को जब दंगा शुरू हुआ तो विद्यार्थीजी घर से निकलकर दंगाइयों के बीच पहुंचकर लोगों को शांत करने, उनकी प्राण रक्षा करने की कोशिश करने लगे। शाम तक उसी धुन में मारे-मारे फिरते रहे। लोगों को बचाते वक्त उनके पैर में कुछ चोट आयी। 24 तारीख की रात में और 25 की सुबह दंगे का रूप और भी भीषण हो गया। और वह नौ बजे सुबह सिर्फ थोड़ा सा दूध पीकर लोगों को बचाने के लिए चल पड़े। उनकी धर्मपत्नी ने जाते समय कहा-  "कहां इस भयंकर दंगे में जाते हो।" उन्होंने जवाब दिया- "तुम व्यर्थ घबराती हो। जब मैंने किसी की बुराई नहीं की तब मेरा कोई क्या बिगड़ेगा? ईश्वर मेरे साथ है।" इतना कहकर हिंदी पत्रकारिता का भीष्म अपनी मृत्यु को मृत्युंजय बनाने के लिए घर से निकल पड़ा, इसके बाद 'प्रताप' संपादक कभी अपने घर वापस नहीं आये। शहीद होने के लगभग 22 वर्ष पहले 'सरस्वती' में लिखे जीवन के प्रथम लेख 'आत्मोत्सर्ग' में विद्यार्थीजी ने अपना मार्ग स्पष्ट कर दिया था। लेख के अंतिम शब्द "यदि आप में आत्मोसर्गी बनने की अभिलाषा हो तो आपको अवसर की राह देखने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि आत्मोसर्ग करने का अवसर प्रत्येक मनुष्य के जीवन में, पल-पल में आया करता है। देशकाल और कर्तव्य पर विचार कीजिये और स्वार्थरहित होकर साहस को नहीं छोड़ते हुए कर्तव्यपरायण बनने का प्रयत्न कीजिये।"
विद्यार्थीजी के लिए शायद आत्मोसर्ग के लिए इससे अनुकूल अवसर शायद नहीं था। उन्होंने पटकापुर, बंगाली मोहाल, इटावा बाजार के करीब 150 मुसलमान स्त्री, पुरुष और बच्चों को वहां से बचाया। ... उस समय विद्यार्थीजी अपनी डेढ़ पसली का दुबला-पतला शरीर लिए नंगे पांव, नंगे सिर, सिर्फ एक कुर्ता पहने, बिना कुछ खाये-पिये, बड़ी मुस्तैदी और लगन के साथ घायलों और निःसहायों को बचाने में व्यस्त थे। किसी को कंधे पर उठाए हुए हैं तो किसी को गोदी में लिए अपनी धोती से उसका खून पोंछ रहे हैं। किसी को डांटकर तो किसी से आरजू मिन्नत से, तो किसी से सत्याग्रह द्वारा वह विपत्तिग्रस्त लोगों को नर-पिशाचों के चंगुल से बचाते रहे। इसी बीच लोगों ने उनसे मुसलमानी मोहल्ले में हिंदुओं पर होने वाले अत्याचार का हाल बताया। यह जानते हुए कि जहां की बात कही जा रही है, वहां मुसलमान ही मुसलमान रहते हैं और वे इस समय बिल्कुल धर्मान्ध होकर पशुता का तांडव-नृत्य कर रहे हैं, विद्यार्थी जी निर्भीकता के साथ उधर चल पड़े। रास्ते में उन्होंने मिश्री बाजार और मछली बाजार के कुछ हिंदुओं को बचाया और वहां से चौबेगोला पहुंचे। वहां पर विपत्ति में फंसे हुए बहुत से हिंदुओं को उन्होंने निकलवाकर सुरक्षित स्थानों पर भेजा औरों के विषय में पूछ ही रहे थे कि मुसलमानों ने उन पर और उनके साथ के स्वयंसेवकों पर हमला करना चाहा।
दूसरे दिन 5:30 बजे प्रताप प्रेस और विद्यार्थीजी के घर वालों को खबर मिली कि विद्यार्थीजी कहीं पर घायल हो गए हैं। पहले तो लोगों को विश्वास नहीं हुआ कि विद्यार्थीजी पर कोई हाथ उठाएगा, परन्तु जब समय बीतने के साथ कुछ निश्चित पता नहीं चला तो संदेह बढा और कई मित्रों ने उन्हें ढूंढना शुरू किया। 11:00 बजे रात तक बराबर उनकी खोज होती रही, पता लगाया जाता रहा, पर कुछ भी पता न चला। चौबेगोला आने तक की बात लोग बतलाते थे। पर इसके बाद कहां गए, कैसे घायल हुए, यह कोई न बतलाता था। यह हाल देखकर विद्यार्थीजी घरवालों और मित्रों को शंका होने लगी। परंतु फिर भी 26 तारीख को दिन भर खोज होती रही। 27 मार्च को पता चला कि अस्पताल में जो बहुत सी लाशें पड़ी हुई हैं उनमें से एक विद्यार्थीजी की लाश होने का संदेह है। तुरंत शिवनारायण मिश्र और डॉ जवाहरलाल वहां पहुंचे। यद्यपि लाश फुलकर काली और बहुत कुरूप हो गयी थी, फिर भी खद्दर के कपड़े, उनके अपने ढंग के निराले बाल और हाथ में खुदे हुए 'गजेंद्र' नाम आदि देखकर पहचान लिया। उनका कुर्ता अभी तक उनके शरीर पर था जेब से तीन पत्र भी निकले, जो लोगों ने विद्यार्थीजी को लिखे थे। उन्हें देखकर यह बिल्कुल निश्चय हो गया कि लाश विद्यार्थीजी की ही है।
जिस समय गणेश जी शहीद हुए उसी समय कराची में कांग्रेस का अधिवेशन चल रहा था। विद्यार्थीजी अस्वस्थ होने के कारण कराची कांग्रेस में नहीं गये थे और वह घर से बाहर भी नहीं निकल रहे थे, परंतु जब दंगे और नरसंहार की बात सुनी तो बीमारी को भूलकर दंगा शांत करने निकल पड़े। कराची में कांग्रेस के नेताओं को जब सूचना मिली तो कराची कांग्रेस ने इस दु:खद घटना पर निम्नलिखित प्रस्ताव पास किया।
"कानपुर कांग्रेस के दंगे में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गणेशशंकर विद्यार्थी की मृत्यु के समाचार पर अपना गहरा दु:ख प्रकट करती है। श्री गणेश शंकर विद्यार्थी कांग्रेसजनों में सबसे अधिक बेलौस कांग्रेसजन थे। उनमें किसी प्रकार की संप्रदायिकता छू भी नहीं गयी थी। इसलिए वे हर दिल और हर संप्रदाय के लोगों में हर-दिल-अजीज थे। कांग्रेस शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करते हुए इस बात पर अभिमान प्रकट करती है कि प्रथम पंक्ति के काम करने वालों में श्रेष्ठ कार्यकर्ता कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने अपना बहुमूल्य जीवन, मुसीबत और खतरे में पड़े लोगों को बचाने के प्रयास में और मारकाट-पागलपन को रोककर शांति की स्थापना में बलिदान किया। कांग्रेस सब लोगों से अपील करती है कि इस अत्यंत बहुमूल्य और उदार बलिदान का वे प्रतिशोध के लिए नहीं बल्कि शांति स्थापना के लिए, एक आदर्श के रूप में उपयोग करेंगें। कांग्रेसी दंगे के कारणों की जांच करने के लिए और उचित उपाय सुझाने के लिए तथा जख्म को भरने के लिए तथा आस-पास के जिलों में दंगे को फैलने से रोकने के लिए एक समिति मुकर्रर करती है। समिति में छः सदस्य होंगे, उसके चेयरमैन डॉक्टर भगवानदास होंगे और मंत्री पंडित सुंदरलाल।"
गांधीजी ने कराची से ही विद्यार्थीजी के संबंध में एक तार  बालकृष्ण शर्मा 'नवीनजी' के नाम भेजा था।-
 "काम में बहुत व्यस्त रहने के कारण मैं न तो कुछ लिख सका न तार दे सका। यद्यपि हृदय खून के आंसू रोता है, फिर भी गणेश शंकर की जैसी शानदार मृत्यु की संवेदना प्रकट करने को जी नहीं चाहता। यह निश्चय है कि आज नहीं तो आगे किसी दिन उनका निष्पाप खून हिंदू-मुस्लिम एक्य को सुदृढ़ बनायेगा। इसलिए उनका परिवार संवेदना का नहीं, बल्कि बधाई का पात्र है। ईश्वर करे उनका दृष्टांत संक्रामक साबित हो।"
                                                                         गांधी
दंगे की जांच-पड़ताल के सिलसिले में डॉ भगवानदास, पुरुषोत्तमदास टंडन, अब्दुल लतीफ बिजनौरी, मंजर अली सोख़्ता और जफरूल मुल्क को महीनों कानपुर में रहना पड़ा। कानपुर में रहकर सैकड़ों व्यक्तियों की गवाही लेनी पड़ी और बाद में बाबू शिवप्रसाद गुप्त के बनारस के निवास स्थान 'सेवा उपवन' में बैठकर रिपोर्ट लिखी गयी। समिति ने बड़े परिश्रम, अनुसन्धान और छानबीन के बाद कई सौ पृष्ठों की एक रिपोर्ट तैयार करके वर्किंग कमेटी के सामने पेश की। काफी समय बाद यह रिपोर्ट छपी। परंतु सरकार ने उसके प्रकाशन के 24 घंटे के अंदर उस रिपोर्ट को ज़ब्त कर लिया।
रिपोर्ट के अनुसार कानपुर में भीषण दंगा होने की सूचना सरकारी हलकों में बहुत पहले से थी। मौलाना मोहम्मद अली की मृत्यु पर कानपुर के हिन्दू दुकानदारों ने अपनी दुकानें नही बंद की। इसलिए मुसलमान दुकानदारों ने तय किया कि आगे किसी हिन्दू नेता के मरने पर जब हड़ताल होगी तो मुसलमान भी दुकानें नहीं बंद करेंगे। पुलिस के कुछ अफ़सर जिनके परिवार शहर में रहते थे, उन्होंने अपने परिवारों को बाहर भेज दिया और अपने रिश्तेदारों को यह पत्र लिखा है कि चूँकि अनकरीब दंगा होने वाला है, इसलिए सुरक्षा की दृष्टि से हम अपने परिवारों को आपके यहां भेज रहे हैं। ऐसे पत्र कमेटी ने अपने कब्जे में लिए थे।
स्वर्गीय गणेश शंकर विद्यार्थी ने अनेक मुसीबतजदा मुस्लिम परिवारों को सुरक्षित स्थान तक पहुंचाया उनकी। अपील और रक्षा के प्रयत्नों से दंगे में उफान नहीं आ रहा था। इसलिए सरकारी अधिकारियों ने प्रयत्न किया कि उन्हें किसी तरह से समाप्त किया जाये। इसलिए उनसे प्रायोजित रूप से कहा गया कि कुछ हिंदू परिवार फंसे हुए हैं उन्हें आप बचाइए। यह कहकर उन्हें चौबेगोला की गलियों में ले गए और वहां ले जाकर एकांत में उन पर छुरे से आक्रमण किया गया। अपने बलिदान से पूर्व उन्होंने सर झुकाकर कहा था कि "मेरी हत्या करने से ही यदि आपको सन्तोष होता है तो सर हाजिर है।" निर्दयी गुर्गो ने बेरहमी के साथ उन्हें कत्ल कर दिया।

उपरोक्त अंश चंपारण सत्याग्रह का गणेश से 
Continue reading

गणेश शंकर विद्यार्थी : छद्म धर्म निरपेक्षता के प्रथम शिकार


गणेश शंकर विद्यार्थी : छद्म धर्म निरपेक्षता के प्रथम शिकार

हिन्दी के प्रशिद्ध पत्रकार, भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के सिपाही एवं सुधारवादी नेता "गणेश शंकर विद्यार्थी" के शहीदी दिवस (25 मार्च) पर कोटि कोटि नमन. 
वे अत्यनत सेकुलर गांधीवादी नेता और पत्रकार थे. 
लेकिन कानपुर के हिन्दू मुस्लिम दंगे में उनका महान सेकुलर होना भी काम नहीं आया था. 
दंगाइयों ने उनको हिन्दू ही माना था.

गणेश शंकर विद्यार्थी जी का जन्म अपने नाना के घर, 26 अक्टूबर 1890 को प्रयागराज में हुआ था. इनके पिता मुंशी जयनारायण हथगाँव, जिला फतेहपुर (उ प्र) के निवासी थे. प्रयागराज के कायस्थ पाठशाला कालेज में पढ़ते समय उनका झुकाव पत्रकारिता की ओर हो गया और वे प्रयागराज के हिंदी साप्ताहिक "कर्मयोगी" के संपादन में सहयोग देने लगे.

1911 में विद्यार्थी जी सरस्वती में पं. महावीरप्रसाद द्विवेदी के सहायक के रूप में नियुक्त हुए.
कुछ समय 9 - नवंबर, 1913 को कानपुर से स्वयं अपना हिंदी साप्ताहिक "प्रताप" के नाम से निकाला. पहले इन्होंने लोकमान्य तिलक को अपना राजनीतिक गुरु माना, किंतु राजनीति में गांधी जी के अवतरण के बाद वे गांधी जी के अनन्य भक्त हो गए.
2018 में दैनिक जागरण समाचार पत्र में प्रकाशित एक लेख 
कांग्रेस के विभिन्न आंदोलनों में भाग लेने तथा अधिकारियों, जागीरदारों और पुलिस के अत्याचारों के विरुद्ध निर्भीक होकर "प्रताप" में लेख लिखने के करण वे 5 बार जेल भी गए. हिंसा और अहिंसा दोनों ही रास्तों पर चलने वाले स्वतंत्रता सेनानी, उनका सम्मान करते थे. वे महान समाज सुधारक होने के साथ बहुत ही धर्मपरायण और ईश्वरभक्त भी थे.

23 मार्च -1931 को "भगत सिंह"-"राजगुरु"-"सुखदेव" की फांसी देने से सारा देश उद्देलित था. उनकी फांसी के बिरोध में 25 मार्च को भारत बंद का आवाहन किया गया , लेकिन अंग्रेजों के चापलूसों ने उस बंद से दूर ही रहे. बल्कि अंग्रेजों को खुश करने के लिए उन्होंने बंद समर्थकों से झगडा भी किया.  कानपुर में भीषण दंगा ही हो गया था.

कानपुर में बाजार बंद करवा रहे लोगों पर, कुछ बंद बिरोधी मुसलमानों ने हमला कर, कानपुर में साम्प्रदायिक दंगा कर दिया. उस बुरे हालात में विद्यार्थी जी दंगे की आग बुझने के लिये घर से निकल पडे और हिन्दुओ / मुसलमानों को समझाने में लग गए. उनके साहसिक प्रयास से अनेकों हिन्दुओं और मुस्लिमो की जान बची.

अपने साथ कुछ मुसलमानों को लेकर, वे मुस्लिम बहुल इलाको में घूम रहे थे तभी कुछ अराजक मुस्लिम गुंडों ने उनपर हमला कर दिया. उनके साथ चल रहे मुसलमानों ने कहा - "ये गणेश शंकर विद्यार्थी हैं, इनकी बजह से हजारों मुस्लिम बच सके हैं". इस पर उन गुंडों ने कोई परवाह नहीं की और उनकी बल्लमो से पीटकर उनकी ह्त्या कर दी .

उनके साथ चल रहे लोग डरकर भाग गए. उनका शव अस्पताल में लाशों के मध्य ऐसी हालत में मिला कि - उसे पहचानना तक मुश्किल था. सम्प्रदियकता को मिटाने और हिन्दू मुस्लिम एकता के लिये, उन्होंने अपने जीवन वलिदान कर दिया.
लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि - आज कोई नेता " गणेश शंकर विद्यार्थी जी" का नाम लेने को भी तैयार भी नहीं है .

यह भी कहा जाता है कि - पहले उन्होंने हिन्दू बहुल इलाके में हिन्दुओं को समझाकर झगडा शांत किया और फिर वहां से कुछ मुस्लिम्स को साथ लेकर मुस्लिम बहुल इलाके में गए. जब मुस्लिम बहुल इलाके में लोगों को समझा रहे थे तो दंगाई यह कहकर उन पर टूट पड़े कि - है तो साला हिन्दू ही"

25 मार्च के ही दिन गणेश शंकर विद्यार्थी जी जैसे महान शख्सियत ने देश की अखण्डता को बनाये रखने के लिए अपना बलिदान दिया था ।
आज वो हमारे बीच नही हैं पर उनके बताये गए आदर्श व् सिद्धांत जरूर आज भी हमें मजबूती प्रदान करते हैं ।
वो अक्सर कहा करते थे की समाज का हर नागरिक एक पत्रकार है इसलिए उसे अपने नैतिक दायित्वों का निर्वाहन सदैव करना चाहिए ।
गणेश शंकर विद्यार्थी पत्रकारिता को एक मिशन मानते थे पर आज के समय में पत्रकारिता मिशन नही बल्कि इसमें बाजार हावी हो गया है जिसके कारण इसकी मौजूदा प्रासंगिकता खतरे में है । 
हम आज डिजिटल इंडिया की सूचना क्रांति के दौर में जी रहे हैं जिसने पत्रकारिता के क्षेत्र में भी अमूल चूक परिवर्तन किया है ..
एक पत्रकार के ऊपर समाज की बहुत बड़ी जिम्मेदारी होती है इसलिए इसे हमेशा सजग व् सचेत रहना चाहिए 
ऐसे महान व् कर्मठ व्यक्तित्व को
कोटि कोटि नमन 🙏🌹🙏

Continue reading

Sunday, 24 March 2019

लोकसभा चुनाव को लेकर असोथर पुलिस ने किया फ्लैग मार्च


लोकसभा चुनाव को लेकर असोथर पुलिस ने किया फ्लैग मार्च 

फतेहपुर - लोकसभा चुनाव को देखते हुए फतेहपुर जिले के तेज तर्रार एसपी कैलाश सिंह के निर्देश पर असोथर पुलिस ने क्षेत्र में अलग-अलग स्थानों में फ्लैग मार्च किया और चुनाव के दौरान अशांति फैलाने वालों और आदर्श आचार संहिता का पालन नहीं करने वालों पर कार्रवाई की चेतावनी भी दी। 

इस दौरान पुलिस ने आम जनता को भी विश्वास दिलाया कि शांतिपूर्ण मतदान और आम लोगों की सुरक्षा के लिए पुलिस तैयार है।

इस फ्लैग मार्च में थानाध्यक्ष कमलेश कुमार पाल , उपनिरीक्षक गोविंद सिंह चौहान , उपनिरीक्षक विजय कुमार त्रिवेदी , कमलाशंकर यादव , कांस्टेबल ध्यान सिंह , संदीप उपाध्याय , हीरामणि तिवारी व अन्य उपस्थित रहे ।
Continue reading